KhabardastKhabaren

KhabardastKhabaren

FREE

(4 stars)

(1)


Download for Android

1 - 5 downloads

Add this app to your lists
View bigger - KhabardastKhabaren for Android screenshot
View bigger - KhabardastKhabaren for Android screenshot
View bigger - KhabardastKhabaren for Android screenshot
ख़ुशहाल ख़बरप्रेमियों,
“ख़बरदस्त ख़बरें”- जबरदस्त ख़बरें !!! सही अर्थमे सर्व प्रथम ई-पत्रिका. इस ई-पत्रिका में आपका स्वागत है.
“ख़बरदस्त ख़बरें” ई-पत्रिका में हम अपने आसपास के हर क्षेत्र की ऐसी ख़बरें आप तक पहुंचाएंगे जो आपके दिल-ओ-दिमाग़ में खलबली मचा देंगी. जी हां, ख़बरें इतनी ख़बरदस्त होंगी कि आप हमारी पत्रिका के ख़ुशहाल ख़बरप्रेमी बनने पर मजबूर हो जाएंगे.
और हां......हम ईमानदारी और सच्चाई के साथ यह ज़रूर बताना चाहेंगे कि इस ई-पत्रिका में हम जो भी ख़बरें देंगे उनका मक़सद आपका मनोरंजन करना है न कि किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना.

आज कल सिर्फ एक ही सवाल ऐसा है जिसने पुर दुनियामे खलबली मचा दी है. २१-१२-२०१२. क्या २१-१२-२०१२ क़यामत का दिन है..?, क्या उस दिन इस दुनिया का अंत होगा..?, क्या माया सभ्यता के लोंगोकी भविष्यवाणी सच साबित होगि..? क्या २१-१२-२०१२ के बाद कोई भी जीवित नहीं बचेगा ? क्या दशावतार का दसवां अवतार अभी जन्म लेगा? ऐसे एक नहीं अनेक सवाल लोंगोके दिमागमे घमासान मचाए हुए है. वाकई FRIDAY THE 13Th के बाद यह पहली ऐसी तारीख है जिसने लोंगोंके दिलोमें खोफ़ पैदा कर दिया है. इस मसले को हलके फुल्के अन्दाजमे आप तक पहुँचाने की कोशिश की गई है इस "खबर्दस्त खबरें" के इस अंकमे.

तो ख़बरों और उनमें छुपे व्यंग्य का आनंद लीजिये और अपनी प्रतिक्रियाओं से हमें अवगत अवश्य कराइये. हमारा ”ख़बरदस्त ख़बरें” का पहला अंक आपको कैसा लगा, ज़रूर बताएं. इसके लिये हमने आपके लिये एक कॉलम सुरक्षित रखा है......”बोल-वचन”. इसमें आप अपनी प्रतिक्रियाएं या, सुझाव भेज सकते हैं.
अगर आप भी इस ई-पत्रिका के खबरी बनाना चाहते हो तो हमें जरुर बताएं. आपकी प्रतिक्रियाएं हमें एस पते पर भेजे manbhavee@gmail.com .
इस ई-पत्रिका का मक़सद सिर्फ़ इतना है कि हम और आप मिलकर यह जान-समझ सकें कि हमारे-आपके लिये और समाज-देश के लिये अच्छा या बुरा क्या है और हम-आप अच्छाई को और अच्छा कैसे कर सकते हैं और बुराई को हटाने की कोशिश कैसे कर सकते हैं.
तो इस वादे के साथ कि अगले अंक में कुछ और ”ख़बरदस्त ख़बरें” लेकर उपस्थित होंगे....और अगला अंक होगा २०१२ का लेखा-जोखा.
फिलहाल हम आप से विदा लेते हैं.....
नमस्कार, ख़ुदा हाफ़िज़, सत् सिरी अकाल, बाय.......

आपका अपना....
ई-ख़बरी.
बी एन एम् कम्बाइन्स

Recently changed in this version

Language of E-NewsPaper- Hindi
Preferred orientation - Horizontal


Comments and ratings for KhabardastKhabaren

  • There aren't any comments yet, be the first to comment!